Skip to main content

Sip mutual fund kya hai और म्यूचुअल फंड में कैसे निवेश करे

Sip Mutual Fund kya hain और mutual fund में कैसे निवेश करे।

दोस्तो जब भी हम टीवी में या सोशल मीडिया पर विज्ञापनों (advertisement)में देखले की म्यूचुअल फंड सही हैं लेकिन मन में फिर भी एक दर रहता हैं और कई सारे प्रश्न भी उठते हैं की क्या पता लॉस हो गया तो और पैसा डूब गया तो और चार्जेस कितने हैं , कैसे शुरुआत करे ,कौनसा फंड में निवेश करें , कास कोई अच्छे से सीखा पाता तो दोस्तो आज के इस ब्लॉग में हमलोग आपके सारे प्रस्नो का उत्तर देंगे की म्यूचुअल फंड क्या है, म्यूचुअल फंड में कैसे निवेश करे और mutual fund expense ratio और भी बहुत कुछ। तो दोस्तो आप जरूर इसे पूरा पढ़े और दोस्तो के साथ शेयर भी करे।
Mutual fund



म्यूचुअल फंड क्या हैं ,mutual fund kya hai

दोस्तो म्यूचुअल फंड बहुत सारे लोगो को लगता हैं की यह सिर्फ शेयर बाजार में निवेश करने का तरीका हैं लेकिन अगर चाहे तो आप म्यूचुअल फंड से गोल्ड (Gold) में निवेश कर सकते हैं और चाहे तो रियल एस्टेट(Real Estate) में भी कर सकतें हैं , डेट फंड(Debt fund) में कर सकते है ,या जैसा हमलोग जानते हैं की  इक्विटी और स्टॉक्स में निवेश कर सकते है। तो इन चारो में आप चाहे तो म्यूचुअल फंड से इन्वेस्ट कर सकते है । लेकिन ज्यादातर जब म्यूचुअल फंड की रिस्क और रिटर्न की बात होती है कि रिस्क ज्यादा है थोड़ा volatile हो सकती है और रिटर्न भी ज्यादा है तो थोड़ा उपर नीचे भी हो सकती है तो ये सारी चीजों की बात होती हैं इक्विटी (equity) के बात में यानी जो शेयर बाजार में स्टॉक में पैसे लगाते हैं उनके कंटेक्स्ट में। तो म्यूचुअल फंड क्या होता है उसे समझने के लिए शेयर बाजार क्या होता है और कैसे काम करता है ये भी समझना सबसे ज्यादा जरूरी हैं।

दोस्तो जैसा की हम जानते हैं शेयर बाजार में  इन्वेस्ट करने के लिए तीन तरीके होते है :–
1.पहला तरीका होता है की आप खुद रिसर्च करे और अपने लिए बेस्ट चुने।
2.दूसरा तरीका होता है की आप फाइनेंशियल एडवाइजर की एडवाइस ले।
3.आप sip Mutual fund के साथ करे या एक बार में करे और आप बाद में  पैसे देते रहे।

म्यूचुअल फंड के द्वारा शेयर बाजार में निवेश करने पर आपको जो फायदे मिलते हैं:–
• इसमें आपको हर रोज ट्रैक नही करना हैं की आपको फायदा हो रहा या नुकसान क्युकी वहा एक्सपर्ट्स आपके लिए वो सब कर देते है।
•आपको स्टॉक पीकिंग की नॉलेज होनी जरूरी नहीं है। कंपनी के फंडामेंटल स्टेटमेंट चेक करने की जरूरत नही हैं सिर्फ आपको एक अच्छा सा फंड चुन ना है ।

तो अब आपने जान लिया है की म्यूचुअल फंड का काम हैं आपको इंडिरेक्टली शेयर में इन्वेस्ट करना लेकिन उसको कोई और हैंडल करेगा ।
Mutual Fund

म्यूचुअल फंड कैसे काम करता हैं ,mutual fund kaise Kam Karta hain 

मान लीजिए अगर आपको 20,000 रुपए लगाना हैं और अगर आप खुद निवेश करना चाह रहे हैं या आप किसी एडवाइजर के द्वारा जाना चाह रहे हैं और उसने आपको बोल दिया mrf का शेयर ,टाटा का या eicher motors का ले लीजिए तो वो एक शेयर ही बहुत महंगा हैं की आपका बजट ही उतना नहीं हैं तो आप कैसे खरीदेंगे उस शेयर को इसलिए आप 20,000 में उस शेयर नही लेंगे तो ये एक प्रॉबलम हैं की न आप खुद से ले पाएंगे नही एडवाइजर की एडवाइस को फॉलो करके लेकिन (mutual fund investment
यह करता हैं आपसे कुछ पैसे  लेगा , किसी और से कुछ पैसे लेगा ऐसे करके वो बहुत सारे लोगो से पैसे लेगा और वो फिर उस महंगे शेयर को ले लेगा। तो मान लो अगर आप अकेले होते तो आप mrf का शेयर नही ले पाते अब जबकी आप म्यूचुअल फंड में एक साथ मिलकर खरीद रहे हो तो वो फंड बहुत सारा शेयर्स ले लेगा । तो म्यूचुअल फंड आपको यूनिट्स दे देगा आपके निवेश के अनुसार। इसी तरह म्यूचुअल फंड आपके थोड़े निवेश से वो बहुत सारे कंपनी के शेयर लेता हैं क्युकी वहा बहुत लोग एक साथ पैसे देते हैं। अगर आप डायरेक्ट निवेश करेंगे तो नही कर पाते पैसे न होने के कारण।

             म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है 
 वह एक फंड मैनेजमेंट कंपनी बनाता हैं जिसे की एएमसी कहा जाता है वो कंपनी एक फंड को लॉन्च करती हैं फिर लोगो से पैसे मंगाती है की हमने एक मल्टी कैप फंड लॉन्च किया हैं यानी की हम हर तरह के छोटे बड़े मीडियम कंपनीज में निवेश करेंगे और हमारे पास ये ये एक्सपर्ट हैं जो आपका पैसा मैनेज करेंगे इनका ये ट्रैक रिकॉर्ड हैं आप आइए और निवेश करेंगे हम आपको एक अच्छा रिटर्न देंगे। तो फिर जो लोग भी इंटरेस्ट होते हैं कोई 500 रुपए के साथ कोई 10,000 या कोई और अमाउंट के साथ तो वो उस एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC)ko उस फंड के लिए दे देगा।तो ऐसा करके जितना पैसा इकट्ठा हुआ उसे कहते हैं AUM (Asset under management) । तो मान लीजिए 2000 रुपए सबसे लिए और 50 लोग थे तो कंपनी के पास 1,00,000 रुपए आ गए तो अब वो AMC एक फंड मैनेजर नियुक्त करती हैं जो की एक्सपर्ट होता है शेयर्स चुन ने में तो अब वो आपके इन पैसों को कहा कहा निवेश करना हैं उसके लिए वो एक स्ट्रेटजी बनाएगा जैसे कुछ पैसे एक कंपनी के शेयर में कुछ दूसरे के। और आपको मिल जाएंगे उस म्यूचुअल फंड के यूनिट्स जिसे जब चाहे आप बेच सकते हैं 2 दिनों में पैसा आपके अकाउंट में आ जायेगा।

म्यूचुअल फंड के फायदे (Benefits of Mutual Fund)

•थोड़े पैसे में ज्यादा diversification|अगर आप 2–4 हजार रुपए लगाना चाह रहे तो आप जायदा शेयर्स नही ले पाएंगे लेकिन म्यूचुअल फंड के द्वारा पॉसिबल हैं बहुत कंपनी में थोड़े थोड़े invested रहना।
•एक एक्सपर्ट हैं जो आपके पैसों को मैनेज कर रहा हैं इसलिए आपको बार बार ट्रैक नही करनी पड़ेगी और आपका वक्त भी बचेगा।
•आपने अगर एक बार पैसे लगा दिए तो वो जो एक्सपर्ट हैं वो आपके और बाकियों के फंड को लगाते रहेगा आपको खुद से कुछ ट्रांजैक्शंस नही करनी पड़ती।

आप चाहे तो SIP Mutual fund (सिप ) के द्वारा भी कर सकते हैं इसमें होगा ये की हर महीने आप जितना चाहे उतना निवेश करते रहे और वो पैसा आपके अकाउंट से ऑटोमैटिक निवेश होता रहेगा। और आप जब चाहे SIP रोक सकते हैं ,जब चाहे बढ़ा सकते हैं या जो पैसे आपके बचते हैं सैलरी या बिजनेस से उसमे से एक फिक्स अमाउंट निवेश करते रहे।इसके लिए आपको कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं देना पड़ेगा।और मान लिजिए अगर आपकी SIP बाउंस हो जाती हैं तो भी आपको डरने की जरूरत नही हैं तो सिर्फ 5–10 रुपए बैंक के चार्ज बस लगते हैं और कुछ बड़ा नुकसान नहीं होता।

म्यूचुअल फंड के नुकसान, Disadvantages of mutual fund

•कुछ म्युचुअल फंड कंपनी लालची होती हैं उन्हें बस इस बात की लालच होती हैं सब उनकी फंड में ही निवेश करे , बहुत जगह विज्ञापन करेंगे क्युकी जितना पैसे लोग उसमे डालेंगे उसमे से 1–2 % वो कंपनी कमाएगी।
•मार्केट क्रैश के समय जब वो फंड और पैसे लगाना चाहता है तब लोग डर से पैसे निकालते जिस से उसे शेयर बेचकर पैसे देने पड़ते हैं।
•कई बार म्यूचुअल फंड कंपनी ज्यादा रिस्क नहीं लेते है अपनी नाम और जॉब बचाने के लिए इसलिए वो जो ज्यादा रिटर्न तो दे सकती हैं पर ज्यादा रिस्की है ऐसे शेयर्स में निवेश नहीं करते।


अंत में दोस्तो मैं आप लोगो से यही कहूंगा कि आप सोच समझकर म्यूचुअल फंड चुने । अगर आप इंडेक्स फंड में निवेश करना या उसके बारे में जान न चाहते हैं पढ़ सकते हैं इसमें मैने म्यूचुअल फंड और इंडेक्स फंड का pros and cons दोनो ही बताए हैं।

 दोस्तो SIP mutual fund kya hain , और mutual fund me kaise nives kare ये मैने आपको बता दिया और करने के लिए दोस्तो आपको एक डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ेगी इसके लिए में 2 ब्रोकर यूज करता हु ।
1. Groww यहां आपको Free Demat Account मिल जायेगी इसके साथ 100 रुपए बोनस भी ।

2. 5 paisa यहां भी आपको दोस्तो Free Demat Account और 250 रुपए मिल जायेगा। कोड स्तिमाल करे BEBY011 . 

इन्हे भी पढ़े :–





Comments

Popular posts from this blog

2022 Best 5 Multibagger Penny stocks to buy in India | 2022 के लिए बेस्ट 5 penny stocks ।

Penny stocks to buy in India 2022, penny stocks 2022, 2022 में कौनसे पेनी स्टॉक्स खरीदे। आज मैं आप लोगों को बताने वाला हूं पांच ऐसे पेनी स्टॉक जिसको आप अपने पोर्टफोलियो में ऐड कर सकते हैं| यह सब पेनी स्टॉक इंडिया में दोस्तों आप लोगों को सिर्फ 20 Rs. के आसपास में मिल जाएंगे|ये आर्टिकल में बहुत  रिसर्च करने के बाद लिख रहा हूं तो कृपया इसे पूरा पढ़े ताकि आपको अच्छे से समझ में आए ।अगर इनमें से आपका एक भी स्टॉक मल्टीबैर बन जाता है तो आपको काफी अच्छा रिटर्न देखने को मिल सकता है । लेकिन दोस्तो मेरा मक्सत सिर्फ आप लोगो को कुछ भी बताना नही है बल्कि हर एक चीज की सही तरीके और बारीकी से समझाना है तो आप से एक निवेदन है की आप यह ब्लॉग पूरा पढ़े। चलो आप लोगो मैं एक मजेदार चीज सबसे पहले बताता हूं आप लोगो ने सर Benjamin Graham का नाम जरूर सुना होगा जो अपने टाइम के सबसे होसियार और अमीर निवेशक थे और ये आज के समय के मशूर निवेशक Warren Buffet के गुरु भी थे। और इन्होंने कुछ किताबे भी लिखी है जैसे The Security Analysis , The Intelligent Investor जो की इस फील्ड की बाइबल मानी जाती है और सबने इसे जरूर पढ़ा होग

शेयर का इंट्रिंसिक वैल्यू कैसे निकाले Intrinsic value in hindi,company ki intrinsic value kaise nikale

How to find the Intrinsic value of shares in hindi| किसी भी शेयर का इंट्रिंसिक वैल्यू कैसे निकाले| दोस्तो जब भी हम शेयर मार्केट में किसी भी शेयर को देखते हैं तो रोज उसकी दाम ऊपर नीचे होती रहती हैं और रोज अलग अलग दिखती है यह देखकर हमारे मन में एक प्रश्न उठती है की किस दाम पर खरीदे कौनसा दाम सही हैं खरीदना ? अगर आपके भी मन में ऐसा कुछ प्रदान हैं तो यह ब्लॉग में आपको पूरी जानकारी मिलेगी इसलिए मैं आपसे रिक्वेस्ट करूंगा की आप इसे पूरा पढ़े। What is an Intrinsic value |Intrinsic value kya hain  दुनिया के सबसे अमीर इन्वेस्टर Warren Buffet कहते हैं investing की दुनिया में सबसे जरूरी ये तीन शब्द हैं मार्जिन  ऑफ सेफ्टी इसका मतलब यह हैं कि जब आप कोई स्टॉक खरीदते हो तो आपको शेयर के इंट्रिसिक वैल्यू से कम मूल्य में खरीदना चाहिए और एक मार्जिन ऑफ सेफ्टी रखना चाहिए लेकिन अगर आपको इंट्रिंसिक वैल्यू कैलकुलेट करना ही नही आता तो आप मार्जिन ऑफ सेफ्टी कैसे स्तिमाल करोगे।तो आज हम जानेंगे की कोई भी कंपनी की रियल वैल्यू कैसे पता लगाए जिस से आपको यह पता चल सके कि वो स्टॉक महंगे में बिक रहा हैं या सस्ते में और

कौनसा Penny Stocks ले और कैसे crorepati बने cheap stocks से और पैनी स्टॉक्स क्या हैं।

दोस्तो आज हम बात करने वाले है penny Stocks के बारे में ये ऐसे स्टॉक्स होते हैं जो 2रुपए से बढ़कर 2000 तक भी जा सकते हैं।कहने का मतलब यह ही की आपके बहुत कम इन्वेस्टमेंट को बहुत ज्यादा बढ़ा सकते हैं और इसके साथ इस ब्लॉग में हम और भी चीज जानेंगे जो penny stocks ya cheap stocks से रिलेटेड हैं जैसे :– • स्टॉक्स स्प्लिट (stocks split) • मार्केट कैप • कंपनी का शेयर प्राइस बढ़ता या गिरता कैसे हैं दोस्तो हम सबने राकेश झुनझुनवाला का नाम तो सुना ही हैं जिन्होंने investing के जरिए काफी पैसे कमाए हैं और ये भी सुना होगा की उन्होंने अपने जिंदगी का सबसे बड़ा इन्वेस्टमेंट Titan कंपनी में किए हैं।उन्होंने इस कंपनी में 2003 में इन्वेस्ट किया था जब इस कंपनी का शेयर प्राइस 3 रुपए था और ये इन्वेस्टमेंट लगभग 500 गुना ऊपर जा चुका हैं। और भी अपलोगो को ऐसे बहुत सारी कहानी सुन ने को मिलती होगी की आप किसी कंपनी में कुछ हजार रुपए इन्वेस्ट करते हैं जब वो कंपनी का शेयर प्राइस 2 रुपए या 5 रुपए का था तो अपने उस से काफी ज्यादा वेल्थ बना ली होती लेकिन हमे ये स्टॉक्स मिलेंगे कैसे क्युकी स्टॉक मार्केट में जो कंपनी अच्छ